आज सबकी निगाहें राजस्थान पर, विधानसभा में गहलोत का कॉन्फिडेंस टेस्ट; अटल जी से आगे निकले पीएम मोदी, कल बनाएंगे एक और नया रिकॉर्ड

Image
आज 14 अगस्त है, ठीक 73 साल पहले आज ही के दिन अंग्रेजों ने भारत के बंटवारे की लकीर खींची थी और दुनिया के नक्शे पर पाकिस्तान नाम के एक नए राष्ट्र का जन्म हुआ था। वहीं, दूसरी ओर आज सबकी निगाहें राजस्थान पर टिकी रहेंगी। सीएम अशोक गहलोत विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे। हालांकि, सरकार पर फिलहाल कोई संकट नहीं नजर आ रहा है। बगावत के बाद सचिन पायलट गुरुवार को सीएम अशोक गहलोत से मिले। दोनों नेताओं ने हाथ मिलाया और मुस्कुराए, लेकिन गले नहीं मिले। विधायक दल की बैठक में गहलोत ने कहा कि हम इन 19 एमएलए के बिना भी बहुमत साबित कर देते लेकिन वह खुशी नहीं होती। आखिर अपने तो अपने होते हैं। उधर भाजपा ने भी विधायक दल की बैठक बुलाई। इस बार पूर्व सीएम वसुंधरा राजे भी बैठक में शामिल हुईं। भाजपा ने कहा कि वह विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाएगी।पढ़िए पूरी खबर...कोरोना है कि थमने का नाम नहीं ले रहा है। देशभर में संक्रमितों का आंकड़ा 24 लाख के पार जा चुका है। वहीं मरने वाली की संख्या 47 हजार से अधिक हो गई है। हालांकि राहत की खबर है कि रिकवरी रेट 70 फीसदी हो गया है। उधर कोरोना से जुड़ी सबसे बड़ी खबर गुरु…

भारत-चीन में इस साल 70 इवेंट होने थे, पर गलवान के चलते मुश्किल में; सरकार चीन पर जल्द कुछ आर्थिक प्रतिबंध भी लगा सकती है

अभी 1 अप्रैल 2020 को भारत और चीन ने कूटनीतिक रिश्तों की 70वीं सालगिरहमनाई थी। 75 दिन ही हुए थे कि चीन ने इस रिश्ते कोधोखा दे दिया। सीमा पर हमारे 20 जवान लड़ते हुए शहीद हो गए।
इससे पहले दोनों देशों ने 70वीं सालगिरह का पूरे सालभर जश्न मनाने का वादा किया था। दोनों देशों में 70 इवेंट्स होने थे। इनमें पीपल-टू-पीपल, पॉलिटिकल, कल्चरल इवेंट्स शामिल थे। मकसद, दोनों देशों के बीच के ऐतिहासिक रिश्तोंको बताना था।
लेकिन, अब सूत्रों के मुताबिक इन इवेंट्स का हो पाना मुश्किल ही नहीं असंभव है। क्योंकि चीन ने इस ऐतिहासिक मौके पर भारत के साथ गद्दारी की है। विदेश मामलों के जानकार हर्ष वी पंत कहते हैं कि दोनों देशों ने इस खास मौके पर जश्न मनाने की काफी तैयारियां की थीं। अल्टरनेटिवएक इवेंट इंडिया में तो दूसरा चीन में होने की प्लानिंग थी। लेकिन, पहले कोरोना औरअब गलवान हो गया।ऐसे में इनका हो पाना बहुत ही मुश्किल है। मौजूदा वातावरण इन इवेंट्स केलायक नहीं हैं।

पूर्व डिप्लोमेट, रक्षा मामलों के जानकार और पाकिस्तान समेत कई देशों मेंराजदूत रह चुके जी. पार्थसारथी कहते हैं कि भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव अद्भुत माहौल में पैदा हुआ है। तब जब दुनिया में कोरोनावायरस है, अमेरिका-चीन के बीच खींचतान चल रही है। लेकिन दोनों देश अब और ज्यादा तनाव अफोर्ड नहीं कर सकते हैं।

  • जी. पार्थसारथी,10 प्वाइंट्स में भारत-चीन के बीच मौजूदा हालात और आगे की संभावनाओं के बारे में बता रहे हैं-

1- इस वक्त चीन भी नहीं चाहता है कि सीमा कामसला हाथ से निकल जाए और तनाव बढ़े। हालांकि, भारत सरकार इस विवाद के बाद चीन पर कुछ आर्थिक प्रतिबंध तो जरूर लगाएगीऔर यह कोई बुरी बात भी नहीं है।

2- हां, यह जरूर है कि चीन ने गलवान वैली में सेना की नई टुकड़ियोंको तैनात कियाहै। डेवलपमेंट भी बड़े पैमान पर किया है। उसकी वजह दौलत बेग ओल्डी है, जो अक्साई चीन सीमा के पास ही है।

3- दरअसल, दौलत बेग ओल्डी मेंभारत ने सड़क और सैन्य बेस बना लिया है। पिछले कुछ साल में भारत ने चीन से सटेसीमाई इलाकों में अच्छी सड़कें भीबना ली हैं। यह बात चीन को पसंद नहीं है।

4- जहां तक बात सीमा विवाद पर भारत सरकार के बयान की है, तो कूटनीति में बहुत स्वाभाविक है कि सरकारें फूंक-फूंक कर कदम उठाती हैं। इसलिए बयान आने में देरी हुई।

5- हकीकत यह है कि आज चीन के साथ कोई भी देशसंघर्ष नहीं चाहता है। आर्थिक क्षेत्र में चीन हमसे पांच गुना आगे है। सैन्य क्षेत्र में वह हमसे चार गुना आगेहै। यदि उनसे लड़ना है, तो हमें मजबूरी में ही लड़ना होगा।

6- हमारी सेना को यह पता नहीं चल पाया कि चीन उस इलाके में कितनी सेना तैनात कर चुका है। चीन ने पूरे पहाड़ों पर कब्जा कर लिया है। उसने ऐसा खुद को शक्तिशाली बनाने के बाद ही किया है।

7- चीनी सैनिकों के मारे जाने की बात है तो सरकार यह औपचारिक तौर पर कभीनहीं बता सकती है कि हमारी सेना ने चीन के कितने सैनिकोंको मारा है।

8- जब नेपाल में जाकर आप मधेशियों (भारतीय मूल के लोग) का साथ देंगे, तो नेपाली आपके खिलाफ निकलेंगे ही। अभी चीन उनके साथ है, इसलिए नेपाल को हमारे खिलाफ बोलने की हिम्मत हो रही है।

9- जब प्रधानमंत्री शक्तिशाली होते हैं, तो विदेश मंत्री की भूमिका सीमित ही हो जाती है, चाहे वह पूर्व पीएम इंदिरा गांधी का दौर हो, या फिर मौजूदा प्रधानमंत्रीनरेंद्र मोदी का समय।

10-भारत-चीन बातचीत के जरिए मसला सुलझा लेंगे। अभी युद्ध का वक्त नहीं है, सरकार के पास लड़ने के लिए पैसा नहीं है। कोरोना और आर्थिक मंदी के दौर में अमेरिका भी कुछ करने में हिचकिचा रहा है। इस वक्त चीन भी युद्ध लड़ नहीं सकता है।

  • भारत-चीन के कूटनीतिक रिश्तों की क्या है क्रोनोलॉजी?
  • आगे रिश्ते बिगड़ेंगे या सुधरेंगे?

भारत सरकार चीन पर ब्लैंकेट बैन नहीं लगाएगी, सेक्टोरियल इंगेजमेंट कम कर सकती है

हर्ष वी पंत कहते हैं कि भारत सरकार चीन पर ब्लैंकेटबैन नहीं लगाएगी, सिर्फ सेक्टोरियल इंगेजमेंट कम कर सकती है। इसके तहत सरकारी टेंडर से चीन को बाहर किया जा सकता है, स्ट्रैटेजिक और टेक्नोलॉजी सेक्टर से बाहर किया जा सकता है। लेकिन बेसिक ट्रेड तो चलता ही रहेगा, उसे शार्ट-टर्म में नहीं खत्म किया जा सकता है। सोशल मीडिया पर कुछ लोग बकवास कर रहे हैं, लेकिन हकीकत तो यह है कि इन्हें बंद करने से भारत को ही नुकसान होगा।

  • कूटनीतिक कदम किस दिशा में हैं?

रक्षा मंत्री रूस को बैलेंस करने गए हैं, ताकि वह न्यूट्रल रहे

पंत कहते हैं कि चीनी निवेशकों को अब भारत में निवेश करने मेंमुश्किल आ सकती है।वे रिस्क भी नहीं लेना चाहेंगे, क्योंकि हो सकता है कि आने वाले वक्त में दोनों देशों के बीच टेंशन बढ़ जाए। भारत-चीन-रूस के विदेश मंत्रियों की वर्चुअल मीटिंग में द्विपक्षीय संबंधों पर कोई चर्चा नहीं हुई। सिर्फ ग्लोबल इश्यू पर बात हुई। वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस को बैलेंस करने माॅस्को गए हैं। ताकि यदि चीन से लड़ाई की स्थिति बने भीतो रूस न्यूट्रल रहे। डिफेंस सप्लाई भी बनाए रखे।

  • मौजूदा वक्त में किस क्षेत्र मेंभारत-चीन के रिश्तेकैसे हैं ?


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
India China Relation Latest News /70 Years of Diplomatic Relations Anniversary; All you Need To Know, galwan face off


from Dainik Bhaskar /db-original/news/url-india-china-relation-latest-news-70-years-of-diplomatic-relations-anniversary-all-you-need-to-know-127441758.html
via IFTTT

Comments

Popular posts from this blog

Navratre 2020

Weight loss intrested Women easy follows given tips

Ram Navami 2020